इंडिया ग्रेन लेग्यूम क्लस्टर डेवलपमेंट प्रोग्राम : पालिसी , प्रोडक्शन और नुट्रिशन, के तहत विकसित चार फिल्मों का सारांश

Theme

Agriculture and Food Security

Type

Video

Languages

More Videos

  • फिल्म 2: मूँग की खेती

  • फिल्म 3: मसूर की खेती

  • फिल्म 4: अरहर की खेती

Video Description

फिल्म 1: इंडिया ग्रेन लेग्यूम क्लस्टर डेवलपमेंट प्रोग्राम का सारांश

90 सेकंड की फिल्म, कार्यक्रम के बारे में एक आशुचित्र प्रदान करता है, जो 2017 से 2020 तक बिहार के पांच जिलों (सारण, सीवान, पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण और समस्तीपुर) में लागू किया जा रहा था। आगा खान फाउंडेशन (भारत) ने कार्यक्रम के कार्यान्वयन के लिए चार संगठनों के साथ भागीदारी की, जो मुख्यतः दलहन की खेती को बढ़ावा देने, पोषण में सुधार और किसानो की आय में बढ़ोतरी करना था ।

फिल्म, कार्यक्रम के तहत मुख्य गतिविधियों पर प्रकाश डालती है जैसे: तीन मौसमों (ज़ैद, खरीफ और रबी ) में दलहन की खेती में किसानों का प्रशिक्षण,कटाई के उपरांत प्रबंधन, सौर-सिंचाई प्रणाली की स्थापना, फसल संग्रहालयों के माध्यम से दलहन उपज की तुलना इत्यादि। फिल्म कार्यक्रम के प्रमुख कार्यान्वयन जैसे -दलहन खेती पर ज्ञान का प्रसार खेती में सुधार के लिए किसान समूहों का गठन, उपयुक्त दलहन बीज किस्मों तक पहुंच एवं सहयोगसामूहिक इनपुट खरीद और विपणन की सुविधा के लिए “पांच किसान उत्पादक कंपनियों” का गठन, कृषि उपकरण जैसी नई तकनीकों की शुरूआत, कम लागत के भंडारण के लिए सुपर बैग, एस एम एस आधारित मौसम परामर्श और एकीकृत कीट प्रबंधन को बढ़ावा देना। कार्यक्रम ने छोटे एवं सीमांत किसानों की मौजूदा फसल प्रणाली को दाल की खेती के लिए बढ़ावा देने में एक प्रभावी मॉडल का प्रदर्शन किया।

फिल्म 2: मूँग की खेती

20 मिनट की फिल्म जो मूँग की खेती में कम निवेश करते हुए उत्पादन और उत्पादकता दोनों को बढ़ाने के लिए तकनीकी पहलुओं पर प्रकाश डालती है।

यह फिल्म पौधों के विकास के तीन प्रमुख चरणों पर प्रकाश डालती है

(i) भूमि का चयन, बीज का चयन एवं बुवाई; (ii) फसल प्रबंधन और फूल आने, फली बनने आदि के महत्वपूर्ण चरणों में आवश्यक गतिविधि और (iii)  मुंग की कटाई और भंडारण। यह फिल्म मुंग की उत्पादकता में सुधार के लिए फिल्ड स्तर पर नई पद्धति दिखाती है (उदहारणत:,  कीटों के हमले को कम करने के लिए पक्षी बैठका लगाना, गन्ने जैसी अन्य उच्च मूल्य वाली फसलों के साथ मुंग का अंतर-फसल (इंटर क्रोपिंग) करना।)

फिल्म 3: मसूर की खेती

20 मिनट की फिल्म, जो मसूर दाल की खेती के लागत को कम करते हुए उत्पादन और उत्पादकता दोनों को बढ़ाने हेतु खेती के तकनीकी पहलुओं पर प्रकाश डालती है। यह फिल्म मुंग की खेती के तरह ही एक समान संरचना का अनुसरण करती है, जिसमें भूमि एवं  बीज का चयन, फसल प्रबंधन, कटाई और भंडारण पर प्रकाश डाला गया है। यह फिल्म मसूर की उत्पादकता में सुधार के लिए नवीन दृष्टिकोणों को प्रस्तुत करता है, जैसे – कीटों के हमले को कम करना, पक्षी बैठका की उपयोगिता, निराई के लिए कम लागत वाले उपकरणों का उपयोग, जीरो टिलेज पद्धति द्वारा भूमि की जुताई इत्यादि।

फिल्म 4: अरहर की खेती

इस 20 मिनट की फिल्म में अरहर की खेती पर आधारित तकनीकी पहलुओं को प्रकाश डालती है ताकि उत्पादन और उत्पादकता दोनों को बढ़ाया जा सके, और कम निवेश किया जा सके। फिल्म मुंग और मसूर की फिल्मों के समान संरचना का अनुसरण करती है, जिसमें भूमि एवं बीज का चयन, फसल प्रबंधन, अरहर की कटाई और उसके भंडारण पर प्रकाश डाला गया है। यह फिल्म अरहर की उत्पादकता में सुधार करने के लिए नवीन दृष्टिकोणों को भी दर्शाता है, जैसे कि कीटों के हमले को कम करने के लिए पक्षी बैठका, निराई हेतु कम लागत वाले उपकरणों का उपयोग, जीरो-टिलेज पद्धति का इस्तेमाल इत्यादि । फिल्म यह भी दिखाती है कि अरहर का अंतर-फसल (इंटर क्रोपिंग) कैसे किया जा सकता है या मेढ़ पर बौडर क्रोपिंग के रूप में कैसे लगाया जाता है।

Video 1: Overview of the India Grain Legume Cluster Development Programme

The 90 second film provides a snapshot about the program, which was under implementation in five districts of Bihar from 2017 to 2020 (Saran, Siwan, West Champaran, East Champaran and Samastipur).  AKF partnered with four organisations for the implementation of the programme, which focused on the promotion of pulses farming to improve nutrition outcomes and farm incomes. 

The film highlights major activities under the program such as season wise training to farmers on pulses farming across the three cropping seasons, post-harvest management, establishment of solar irrigation systems, pulse yield comparison through demonstration of crop museums etc. The film also depicts other key interventions of the programme such as formation of farmers groups to improve knowledge and practice on pulses farming, access to suitable pulses seed varieties, formation of five Farmer Producer Companies to facilitate collective input procurement and marketing, introduction of new technologies such as farm equipment, super-bags for low-cost storage, SMS based weather advisories, and promotion of integrated pest management. The programme demonstrated an effective model of pulses promotion within the existing cropping system of smallholder farmers.

Video 2: Green Gram (Mung) Cultivation

The 20-minute film highlights technical aspects of cultivating green gram (mung) to increase both production and productivity, while reducing input costs. 

The film highlights the steps involved across three key stages of plant growth – (i) land selection, seed selection, sowing; (ii) crop management and required interventions at the critical stages of flowering, pod formation etc. and (iii) harvesting and storage of green gram. The film also shows field level innovations to improve the productivity of green gram (e.g., installation of bird perches to reduce insect attack, inter-cropping of green gram with other high value crops such as sugarcane).

Video 3: Lentil Cultivation

The 20-minute film highlights the technical aspects of cultivating lentils (masoor) to increase both production and productivity, while reducing input costs. The film follows a similar structure as the film on green gram, highlighting the steps involved in land selection, seed selection, crop management, harvesting and storing of lentils. The film also profiles innovative approaches to improve the productivity of lentils, such as bird perches to reduce pest attack, use of low-cost equipment for weeding, zero-tillage practices etc.

Video 4: Pigeon Pea Cultivation

The 20-minute film highlights the technical aspects of cultivating pigeon pea (arhar) to increase both production and productivity, while reducing input costs. The film follows a similar structure as the films on green gram and lentil, highlighting the steps involved in land selection, seed selection, crop management, harvesting and storing of pigeon pea. The film also profiles innovative approaches to improve the productivity of pigeon pea, such as bird perches to reduce pest attack, use of low-cost equipment for weeding, zero-tillage practices etc. The film also shows how pigeon pea can be inter-cropped or planted as a boundary crop.

You might also be interested in

Send this to a friend
Hi, this may be interesting you: इंडिया ग्रेन लेग्यूम क्लस्टर डेवलपमेंट प्रोग्राम : पालिसी , प्रोडक्शन और नुट्रिशन, के तहत विकसित चार फिल्मों का सारांश! This is the link: https://akflearninghub.org/instructional_videos/video/agriculture-and-food-security/%e0%a4%87%e0%a4%82%e0%a4%a1%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%be-%e0%a4%97%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a5%87%e0%a4%a8-%e0%a4%b2%e0%a5%87%e0%a4%97%e0%a5%8d%e0%a4%af%e0%a5%82%e0%a4%ae-%e0%a4%95%e0%a5%8d%e0%a4%b2/